Home EDUCATIONAL पास आउट का बढ़ा आंकड़ा,कोरोना में 13%घटी IIT मंडी की प्लेसमेंट

पास आउट का बढ़ा आंकड़ा,कोरोना में 13%घटी IIT मंडी की प्लेसमेंट

133
0
Please follow and like us:

#मंडी

सामाजिक कार्यकर्ता सुजीत स्वामी द्वारा आरटीआई के तहत यह जानकारी जुटाई गई है। सुजीत स्वामी ने सवाल किया था कि वर्ष 2018-19, 2019-20 एवं 2020-21 में बीटेक, एमटेक, एमएस, एमएससी ,पीएचडी आदि जैसे कोर्सिज में कितने विद्यार्थी पास आउट हुए और उनमे से कितनो का प्लेसमेंट हुआ। इसी के साथ उच्चतम पैकेज एवं निम्नतम पैकेज कितना रहा।  कोरोना काल में आईआईटी मंडी की प्लेसमेंट में 13 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है। संस्थान के बीटेक कोर्स में गत वर्ष के मुकाबले इस वर्ष प्लेसमेंट में 13 प्रतिशत की गिरावट देखने को मिली है। इसके अलावा पोस्ट ग्रेजुएट, प्रोजेक्ट एवं पीएचडी जैसे कोर्सेज में पास आउट होने वाले विद्यार्थियों की संख्या में काफी इजाफा देखने को मिला है।

पोस्ट ग्रेजुएट एवं पीएचडी में कोरोना काल में पास आउट होने वाले विद्यार्थियों की संख्या में उछाल आया है। बीटेक कोर्स में पास आउट विद्यार्थियों की संख्या में तो कोई अंतर देखने को नहीं मिला लेकिन एमटेक एवं पीएचडी में तो यह संख्या लगभग दोगुनी हो गयी है। वर्ष 2018-19, 2019-20 एवं 2020-21 में एमटेक कोर्स में क्रमशः 60, 97 एवं 146 विद्यार्थी पास आउट हुए जबकि पीएचडी में 22, 39 एवं 40  शोधार्थियों ने अपनी रिसर्च पूरी की। इसके अलावा एमएससी कोर्स में 54, 77 एवं 99 विद्यार्थी तो एमएस में 10, 11 एवं 15 विद्यार्थी पास आउट हुए।   जिसका उत्तर देते हुए बताया गया कि बीटेक, एमटेक, एमएस, एमएससी, एमए, पीएचडी कोर्स को मिलाकर वर्ष 2018-19, 2019-20 एवं 2020-21 में क्रमशः 276, 383 एवं 457 विद्यार्थी पास आउट हुए और उनमे से 104, 141 एवं 166 विद्यार्थियों का प्लेसमेंट हुआ जो की कुल पास आउट विद्यार्थीयो का 38, 37 और 36 प्रतिशत है। कोरोना काल में जहां संस्थान लगभग बंद थे एवं पढ़ाई का कार्य ऑनलाइन चल रहा है, वहीं विद्यार्थियों के पास आउट के नंबर की तरफ गौर करें तो, इसका उल्टा असर देखने को मिला। 

Please follow and like us:
Previous articleके दो पर्यटकों से 34 ग्राम चिट्टा बरामद,पंजाब
Next articleखिलाड़ियों पर होगी धनवर्षा,खत्म होगी राजनीति

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here