अब खुली मिठाईयों पर भी लिखनी होगी निर्माण व उपयोग की तारिख

हिमाचल समय न्यूज । सोलन अब खुली मिठाईयों पर उपयोग व उत्पाद की तारिख लिखनी अनिवार्य कर दी गई है। सरकार ने फूड सैफ्टी एक्ट के तहत यह आदेश जारी किए हैं। एक अक्तूबर के बाद यदि कोई मिठाई विक्रेता बिना तारिख अंकित किए मिठाईयां बेचता हुआ पाया गया तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाही की जाएगी। जानकारी के अनुसार वर्तमान में मिठाईयां खुली डिब्बों में बिक रही है। आमतौर पर इन मिठाईयों को दुकान में खुली परात व प्लेट आदि में सजाकर रखा जाता है। इन मिठाईयों पर ना तो उत्पादन की तारिख अंकित की होती है और ना ही यह लिखा होता है कि इस मिठाई का प्रयोग कब तक किया जा सकता है। एक अक्तूबर से अब मिठाई विक्र ेता ऐसा नहीं कर सकेंगे। मिठाई विक्रेता को जिस परात या प्लेट में मिठाई रखी गई है उयके उपर उपयोग व उत्पाद की तारिख लिखनी होगी। एक अक्तूबर से यह अनिवार्य कर दिया गया है। यदि कोई नियम का पालना नहीं करता है तो उस कारोबारी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी। साथ ही 2 लाख रुपए तक का जुर्माने का प्रवधान भी नियम में रखा गया है। इस नियम के लागू होने से पहले देशभर में मिठाई कारोबारियों को इस बारे बताया जा रहा है। भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण द्वारा नियम बनाए है। इससे ग्राहकों को मिठाई के बासी होने की चिंता नहीं करनी होगी और लोगों क मिठाईयां उपलब्ध होगी। [ गौरतलब हो कि खाद्य सुरक्षा और मानक (पैकेजिंग और लेबलिंग) विनियम, 2011 के अनुसार यह नियम पहले सिर्फ पैक्ड मिठाइयों पर ही लागू होता था। हालांकि, अब इस मानदंड को बिना पैक की मिठाइयों के लिए भी अनिवार्य किया जा रहा है। पिछले वर्ष भी एफएसएसएआई ने पारंपरिक भारतीय दूध के उत्पादों पर एक मार्गदर्शन नोट जारी किया था, जिसमें कुछ मिठाइयों की शेल्फ लाइफ को सूचीबद्ध किया गया था। देश भर में बिकने वाली मिठाइयों की लाइफ शेल्फ तैयार कर ली गई है। इस लाइफ शेल्फ में 1 दिन की समयावधि से लेकर 30 दिन तक कि समयावधि में मिठाइयों को रखा गया हैं कि बनाई गई मिठाई कितने दिन में एक्सपायरी होगी। किसी भी मिठाई की दुकान में कम से कम 200 से ज्यादा मिठाई की वैरायटी होती है। इन मिठाइयों को वेरी शार्ट लाइफ (जिस दिन निर्माण की गई उसी दिन एक्सपायरी होना), शार्ट लाइफ (तैयार करने के 2 दिन बाद एक्सपायरी होना), मीडियम लाइफ (तैयार करने के 4 दिन बाद एक्सपायरी होना), लांग लाइफ (तैयार करने के 7 दिन बाद एक्सपायरी होना), वेरी लांग लाइफ (तैयार करने के 30 दिन बाद एक्सपायरी होना) श्रेणी बनाई गई है। सहायक आयुक्त, जिला खाद्य सुरक्षा विभाग, सोलन एलडी महाजन का कहना है कि एक अक्तूबर से सभी खुली मिठाईयों पर उत्पाद व प्रयोग की तारिख अंकित किया जाना अनिवार्य किया गया है। यदि कोई इन आदेशों को नहीं मानता है तो उसके खिलाफ कार्रवाही की जाएगी।

अब खुली मिठाईयों पर भी लिखनी होगी निर्माण व उपयोग की तारिख